Go to top of page

What is academic integrity? (Hindi) – शैक्षणिक निष्ठा क्या होती है?

शैक्षणिक निष्ठा को समझना

 शैक्षणिक निष्ठा क्या होती है?

शैक्षणिक निष्ठा

शैक्षणिक निष्ठा वह अपेक्षा होती है:

Quotation marks

‘जिसमें अध्यापकों, छात्रों, शोधकर्ताओं और शैक्षणिक समुदाय के सभी सदस्यों से उम्मीद की जाती है कि वेः ईमानदारी, विश्वास, निष्पक्षता, आदर और जिम्मेदारी पूर्ण बर्ताव करेंगे।

शैक्षणिक निष्ठा के उल्लंघन को ‘शैक्षणिक दुराचार’ या ‘शैक्षणिक कपट’ के रूप में भी जाना जाता है।

ऑस्ट्रेलिया में उच्च शिक्षा प्राप्त करने वाले सभी छात्रों से अपेक्षा की जाती है कि वे अपनी पढ़ाई के दौरान शैक्षणिक निष्ठा को बनाए रखेंगे। अपनी शैक्षणिक निष्ठा को बनाए रखने का एक तरीका यह होता है कि अगर आपको अपनी पढ़ाई में कोई परेशानी हो रही हो तो अपने अध्यापकों या अपने स्कूल से संपर्क करना और समस्या का हल निकालने के लिए उनके साथ मिलकर काम करना।

पढ़ने और सीखने से वो ज्ञान मिलता है जिसकी आपके कोर्स के एक ग्रेजुएट से उम्मीद होती है लेकिन किसी भी तरह की बेईमानी करने के फलस्वरूप आप महत्वपूर्ण प्रोफेशनल ज्ञान और अभ्यास से वंचित रह सकते हैं जिसकी आपको भविष्य में अपने करियर में सफल होने के लिए जरूरत होती है।

अपनी प्रतिष्ठा की रक्षा करना

अपनी पढ़ाई के दौरान विद्यार्थी ज्ञानार्जन समुदाय का हिस्सा बन जाते हैं। आपके कोर्स या संस्थान की शैक्षणिक निष्ठा को कम करने वाले कामों से भविष्य सें आपकी प्रतिष्ठा पर असर पड़ सकता है। उदाहरण के लिए, अगर आप पढ़ाई के समय बेईमानी करते हुए पकड़े गए, तो प्रोफेशनल समितियों द्वारा आपको मान्यता देने से मना किया जा सकता है।

अपराधियों से बचाव

शैक्षणिक निष्ठा बनाए रखने से आपका अपराधियों से बचाव भी होता है।.

ऑस्ट्रेलिया में व्यवसायिक बेईमानी गैर-कानूनी है।

जो विद्यार्थी कोई निबंध (ऐसे), अध्ययन नोट्स खरीदने के लिए, गैर-कानूनी बेईमानी सेवाओं का उपयोग करते हैं, या अपनी जगह किसी दूसरे व्यक्ति को परीक्षा देने भेज देते हैं, उनको ब्लैकमेल (भेद खोलने की धमकी) का खतरा भी होता है। गैर-कानूनी बेईमानी सेवाओं के संचालक विद्यार्थी को यह धमकी दे सकते हैं कि यदि विद्यार्थी ने उनको बहुत सारा पैसा नहीं दिया तो वो विद्यार्थी की युनिवर्सिटी या विद्यार्थी के भावी नियोक्ता को उस बेईमानी के बारे में बता देंगे – कभी-कभी ऐसी धमकी बेईमानी होने के काफी सालों बाद भी दी जा सकती है।

वे आचरण जो शैक्षणिक निष्ठा में सहायक होते हैं

Tick mark in jigsaw piece

आप निम्नांकित के द्वारा शैक्षणिक निष्ठा बनाए रखने में सहायता कर सकते हैं1:

  • यह स्वीकार करके कि आप जिस जानकारी का उपयोग कर रहे हैं वो आपको कहाँ से मिली है, उसके स्त्रोत का स्पष्ट उल्लेख या संदर्भ प्रस्तुत करके
  • खुद अपनी परीक्षा में बैठकर और अपना खुद का किया हुआ काम जमा करवाके
  • शोध में पता चली बातों को बिल्कुल सही रूप में पेश करके और शोध के नियमों का पालन करके
  • जानकारी का उचित, कॉपीराइट और प्राइवेसी कानूनों के अनुसार उपयोग करके
  • नैतिक आचरण करके या ‘सही काम’ करके, आप दिक्कतों का सामना कर रहे हों तब भी।

यदि आप ऐसी समस्याओं का सामना कर रहे हैं जिनके कारण आपके शैक्षणिक प्रदर्शन पर असर पड़ सकता है, तो यह बेहतर होगा कि आप इस बारे में अपने लैक्चरर या ट्यूटर या कोर्स कोर्डिनेटर से बात करें।

वे आचरण जो शैक्षणिक निष्ठा को कमज़ोर बनाते हैं

Cross mark in jigsaw piece

विद्यार्थियों के कई तरह के व्यवहारों से शैक्षणिक निष्ठा कमज़ोर हो सकती है। कभी-कभी, विद्यार्थी गलती से यह मान लेते हैं कि ये व्यवहार सामान्य होते हैं और इनका कोई परिणाम नहीं होता। यह गलत होता है। शैक्षणिक निष्ठा का उल्लंघन करने पर गंभीर सजाएँ हो सकती है (अधिक जानकारी के लिए नीचे दी गई शैक्षणिक उल्लंघन की सजाएँ देखें) ।

जिन व्यवहारों से शैक्षणिक निष्ठा कमज़ोर होती है या उसका उल्लंघन होता है, उनमें शामिल हैं2:

साहित्यिक चोरी (प्लैज़रिज़्म)

वो काम जो आपका नहीं है उसे, उसके मूल स्त्रोत को स्वीकार, स्पष्ट उल्लेख या संदर्भ प्रस्तुत किए बिना जमा करवाना साहित्यिक चोरी (प्लैज़रिज़्म) कहलाता है। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आपने ऐसा अनजाने में किया है या जान-बूझकर, चाहे आपने उसे अपना काम दिखाने के लिए उसके शब्दों में फेर-बदल किया है या नहीं या आपने उसे बस कॉपी और पेस्ट कर दिया है। जब आप किसी और के विचारों या सुझावों को काम में लेते हैं, तो आपको उस सामग्री के मूल स्त्रोत (source) का संदर्भ देना जरूरी है।

काम को रीसाइकल करना या दोबारा जमा करवाना

रीसाइकलिंग में शामिल होता है, किसी ऐसे काम को आपके शिक्षक की अनुमति के बिना जमा (या दोबारा जमा) करवाना, जिसका पहले आकलन हो चुका है। उदाहरण के लिए, किसी ऐसी रिपोर्ट को अपने थर्ड ईयर के काम के हिस्से के रूप में जमा करवाना, जिस पर आपको फर्स्ट ईयर में नंबर दे दिए गए थे। अगर आप अपने पहले का काम को आगे बढ़ाना चाहते हैं, तो आपको इस बारे में पहले अपने शिक्षक से बात करनी चाहिए।

मनगढ़ंत जानकारी 

मनगढ़ंत जानकारी में शामिल होता है, अनुसंधानआधारित असैसमेंट के कामों के लिए मनगढ़ंत जानकारी प्रस्तुत करना, जैसे कि प्रयोगात्मक या इंटरव्यु आँकड़े। इसमें आँकड़ों, प्रमाणों या सुझावों के स्त्रोतों के बारे में ऐसे प्रकाशनों का उल्लेख करते हुए काल्पनिक जानकारी देना जो या तो सही नहीं हैं या जिनका अस्तित्व ही नहीं है।

सांठ-गांठ

सांठ-गांठ में शामिल होता है, असैसमेंट का काम करने के लिए एक या अधिक विद्यार्थियों के साथ अनुचित सहयोग करना। यह उन ग्रुप असाइंटमेंट्स से अलग होता है जो आपके शिक्षक सैट करते हैं। अनुचित सहयोग के उदाहरणों में शामिल होता है, किसी ऐसे निबंध पर काम करने के लिए किसी दोस्त या कई दोस्तों के साथ मिलकर काम करना, जो निबंध किसी एक व्यक्ति द्वारा तैयार किया जाना था। इसमें दूसरे छात्रों के साथ क्विज़ या टेस्ट के प्रश्नों और उत्तरों के अलावा, रिपोर्ट्स और निबंध जैसे लिखित असाइनमेंट्स शेयर करना भी शामिल है। अनुचित सहयोग से किसी एक छात्र या छात्रों के एक समूह को दूसरों की तुलना में गलत (अनफेयर) फायदा हो सकता है। इसके अलावा, विद्यार्थियों को कभी भी अपना काम दूसरों के साथ शेयर नहीं करना चाहिए क्योंकि इसमें ये खतरा होता है कि जिस व्यक्ति के साथ आपने अपना काम शेयर किया है, वो उस काम को किसी अवैध व्यवसायिक बेईमानी सेवा पर अपलोड कर सकता है या उस काम को दूसरों में परिचालित (सर्कुलेट) कर सकता है।

परीक्षा बेईमानी

परीक्षा बेईमानी में शामिल होता है:

  • अपने शरीर पर या जो चीजें आप परीक्षा कक्ष में अपने साथ ले जाते हैं उन पर ‘चीट नोट्स’ लिख लेना
  • दूसरे विद्यार्थियों से नकल करना
  • परीक्षा चल रही हो तब परीक्षा स्थल से बाहर दूसरे छात्रों से या अन्य लोगों से संपर्क (कम्यूनिकेट) करना
  • परीक्षा देते समय, उस परीक्षा से संबंधित जानकारी को पाने के लिए इलैक्ट्रॉनिक उपकरणों का प्रयोग करना
  • निषिद्ध (प्रोहिबिटेड) वस्तुयें, जैसे कि अस्वीकृत कैलकुलेटर्स या किताबें परीक्षा में अपने साथ लाना।

कॉन्ट्रैक्ट बेईमानी और नाम देना (इम्परसोनेशन)

कॉन्ट्रैक्ट बेईमानी एक प्रकार की अवैध व्यवसायिक बेईमानी होती है। इसमें शामिल होता है, अपने काम का कोई हिस्सा या पूरा काम किसी और से करवाना और फिर उस काम को इस तरह से जमा करवाना मानो वो काम आपने खुद किया था। इसके अलावा इसमें शामिल हो सकता है, अपनी जगह किसी और व्यक्ति को परीक्षा देने भेजना या उनसे कोई निबंध, रिपोर्ट या किसी अन्य प्रकार का असाइन्टमेंट लिखवाना, जिसे कभी-कभी ‘भूत-लेखन’ (घोस्ट राइटिंग) के नाम से भी संदर्भित किया जाता है।

जिन क्रिया-कलापों से अवैध कॉन्ट्रैक्ट बेईमानी को शह मिलती है, उन्हें भी शैक्षणिक निष्ठा का उल्लंघन माना जाता है। इसमें शामिल है. शैक्षणिक सामग्रियों जैसे कि प्रैक्टिस परीक्षाओं, लैक्चर स्लाइड्स और असाइनमेंट प्रश्नों को ‘अध्ययन टिप्पणियों (स्टडी नोट्स)’ में अपलोड करना।

शैक्षणिक निष्ठा के उल्लंघन की सज़ाएँ

Penalties icon

शैक्षणिक निष्ठा के उल्लंघन, जिसे सामान्यतया शैक्षणिक दुराचार या शैक्षणिक कपट भी कहा जाता है, के कारण विद्यार्थियों को कई तरह की सज़ाएँ मिल सकती हैं। अक्सर ये माना जाता है कि छात्र कभी-कभी ही पकड़े जाते हैं। लेकिन अनुसंधान दर्शाते हैं कि अध्यापक और संस्थान शैक्षणिक निष्ठा के उल्लंघन का पता लगा सकते हैं, और जो विद्यार्थी गलत काम करते हैं वे पकड़े जाते हैं3। और बेईमानी को पकड़ने के तरीकों में निरंतर सुधार किया जा रहा है।

शिक्षण निष्ठा का उल्लंघन करने पर मिलने वाली सज़ाओं में शामिल हो सकता है:

  • असैसमेंट के काम या अध्ययन की युनिट को दोबारा करना
  • असैसमेंट के काम या अध्ययन की युनिट में फेल हो जाना
  • आपको आपके संस्थान से निष्कासित कर दिया जाना, इससे आपके विद्यार्थी वीज़ा पर असर पड़ सकता है
  • आपराधिक आरोपों का सामना करना

शैक्षणिक और आपराधिक सज़ाओं के खतरे के अलावा, शैक्षणिक निष्ठा का उल्लंघन करते हुए पकड़े जाने से, दूसरे छात्रों, अपने परिवार, और दोस्तों से आपके संबंधों पर असर पड़ सकता है; आपके भावी करियर पर असर पड़ सकता है और इस उल्लंघन के कारण आपको वित्तीय हानि हो सकती है या फिर, यहाँ तक कि आप अपना विद्यार्थी वीज़ा भी खो सकते हैं।

सहायता लेना

Help icon

यदि आप शैक्षणिक निष्ठा के बारे में कुछ पूछना चाहते हैं, या आपको अध्ययन कुशलताओं के बारे में सलाह और सहायता की ज़रूरत है, तो आपको अपने संस्थान से बात करनी चाहिए। इस बातचीत की शुरुआत, आपके अध्यापक या कोर्स कोर्डिनेटर से करना अच्छा रहेगा।

यदि आपके ऊपर शैक्षणिक निष्ठा का उल्लंघन करने का आरोप लगा है, तो आपको यह मामला गंभीरता से लेना चाहिए। आपके संस्थान में विद्यार्थी अनुशासन, शिकायतों और अपीलों से संबंधित नीतियाँ और प्रणालियाँ अवश्य होंगी। आपको इन नीतियों को पढ़ना चाहिए, और अगर आपके संस्थान में कोई विद्यार्थी संगठन हो, तो आप उनसे भी पक्ष समर्थन (एडवोकसी) और सहायता सेवाएँ माँग सकते हैं।

अगले भाग (अवैध बेईमानी सेवाओं की पहचान करना, उनसे बचना और उनकी रिपोर्ट करना) में संक्षेप में यह बताया गया है कि आपको वैबसाइटों से या सोशल मीडिया पर जिन सेवाओं के विज्ञापन दिए जाते हैं उनसे सहायता लेने से क्यों बचना चाहिए, क्योंकि हो सकता है कि वो अवैध बेईमानी सेवाएँ हों।

टिप्पणियाँ

  1. परिभाषाओं को ला ट्रोब युनिवर्सिटी द्वारा तैयार की गई सामग्री से अपनाया गया है।
  2. परिभाषाओं को सिडनी युनिवर्सिटी द्वारा             तैयार की गई सामग्री से अपनाया गया है।
  3. डॉवसन, पी. व सदरलैण्ड-स्मिथ, डब्ल्यू. (2017)। क्या नंबर देने वाले, कॉन्ट्रैक्ट बेईमानी का पता लगा सकते हैं? एक प्रारंभिक अध्ययन, उच्चतम शिक्षा में आकलन और मूल्यांकन, से मिले परिणाम।